Search This Blog

There was an error in this gadget

PostHeaderIcon Rishtey to bheed hai bas yahan tanhaiyan mile

Rishtey to nahi rishton ki parchaiyan mile
yeh kaisi bheed hai bas yahan tanhaiyan mile.

ek chhat ke tale ajnabi ho jaate hai rishtey
bistar pe chadaron se chup so jaate hai
dhunde se bhi in mein nahi garmaiyan mile
yeh kaisi bheed hai bas yahan tanhaiyan mile.

jisko bhi dekhiye woh adhura sa hai yahan
jaise kahin ho aur woh aadha rakha hua
woh jab jahan jude wahi judaiyaan mile
yeh kaisi bheed hai bas yahan tanhaiyan mile.

Rishtey to nahi rishton ki parchaiyan mile
yeh kaisi bheed hai bas yahan tanhaiyan mile.

हिन्दी मी यहाँ

रिश्ते तो नही रिश्तों की परछाइयां मिलें
यह ऐसी भीड़ है बस यहाँ तन्हाइयां मिले !

एक चाहत के तले अजनबी हो जाते है रिश्ते
बिस्तर पे चादरों से छुप सो जाते है
ढूंढे से भी इन में नही गर्मियाँ मिले
यह कैसी भीड़ है बस यहाँ तन्हाइयां मिले !

जिसको भी देखिये वो अधूरा सा है यहाँ
जैसे कहीं हो और वो आधा रखा हुआ
वो जब जहाँ जुड़े वही जुदाइयां मिले
यह कैसी भीड़ है बस यहाँ तन्हाइयां मिले !

रिश्ते तो नही रिश्तों की परछाइयां मिले
यह कैसी भीड़ है बस यहाँ तन्हाइयां मिले !

0 comments: