Search This Blog

There was an error in this gadget

Blog Archive

PostHeaderIcon यक़ीन ना हुआ उसके चले जाने का

असमा के तारे अक्सर पूछते है हमसे, क्या तुम्हे आज भी इंतज़ार है उसके लौट आने का. और ये दिल मुस्कुरा के कहता है, मुझे तो अब तक यक़ीन ना हुआ उसके चले जाने का...
Raat baaki baat baaki tamannaiye bhi adhoori hai Humare aur unke beech bas ik zara si doori hai Kaleja liye baithe hai hum mashooq ke intezaar me Zaane dekho kab yeh arzoo hoti hai!

Sended By :- Pratima

0 comments: